Ad

HOW TO START SLIPPER MANUFACTURING BUSINESS IN HINDI (चप्पल बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?)

चप्पल बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें (HOW TO START SLIPPER MAKING BUSINESS):-





दोस्तों स्लीपर एक आरामदायक चप्पल है जिसका प्रयोग घर के बूढ़े ,बच्चे ,औरतें सभी लोग करते हैं क्योंकि अपने पैरों की सुरक्षा के लिए कीट-पतंगों से बचने के लिए कंकड़-पत्थर, कांटों से बचने के लिए लोग चप्पलों का इस्तेमाल करते हैं और अपने पैरों में चप्पल पहनते हैं ताकि पैरों की सुरक्षा की जा सके स्लीपर एक ऐसी चीज है जो लगभग हर घर में इस्तेमाल होता है भारत में स्लीपर यानी चप्पल को हवाई चप्पल भी कहा जाता है | यह काफी हल्का होता है जो किसी के भी उम्र के लोग इसे पहन सकते हैं और इसका बिजनेस बहुत ही कम पूंजी में शुरू किया जा सकता है |



हवाई चप्पल बनाने का विधि:-


दोस्तों सबसे पहले हवाई चप्पल बनाने के लिए आपको Raw Material की आवश्यकता होगी | Raw Material के लिए आपको रबर का सीट लेना पड़ेगा और इसके बाद मैं आपको एक सोल कटिंग का डाई भी लेना पड़ेगा इसके बाद आपको मशीन से डाई की सहायता से सोल की कटिंग की जाएगी इसके बाद में ग्राइंडर की मदद से सोल के चारों ओर समतल कर दिया जाता है ,अगर आप चाहें तो आप स्क्रीन प्रिंटिंग की मदद से चप्पल के ऊपर यानी बाहरी हिस्से पर आप इसकी प्रिंटिंग कर सकते हैं ,इसके बाद में इसे सुखा लिया जाता है जैसे ही सोल सूख जाता है तो आप को ड्रिल मशीन की सहायता से चप्पल में तीन छेद करना होता है , छेद करने के बाद में आप को Strap मशीन से स्ट्रैप को लगा दिया जाता है और इसके बाद में इसकी पैकेजिंग कर के बाजार में बेचने के लिए भेज दिया जाता है |


स्क्रीन प्रिंटिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें - जानने के लिए यहाँ क्लिक करें 
 

चप्पल बनाने के लिए मशीनरी और उपकरण :- 

प्पल बनाने के लिए 4 तरह की मशीन का इस्तेमाल किया जाता है -

  1. सोल कटिंग मशीन  (सोल कटिंग मशीन दो प्रकार की होती है एक Manual Machine , दूसरी Automatic Machine जो बिजली से चलती है)
  2. ग्राइंडिंग मशीन 
  3. ड्रिल मशीन
  4. स्ट्रैप मशीन
  5. विभिन्न प्रकार के डाई 

 रा मटेरियल:-

दोस्तों इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको रा मटेरियल खरीदना होगा दोस्तों इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको जो - जो रा मटेरियल की आवश्यकता होगी वह निम्न प्रकार से है -

  1. रबर सीट
  2. स्ट्रैप


चप्पल बनाने के व्यवसाय में ब्रांडिंग:- दोस्तों अगर आप चप्पल बनाने का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो आप इस बिजनेस में ब्रांड और बिना ब्रांड दोनों तरह से आप स्लीपर बनाकर के और बेंच सकते हैं | अगर आप ब्रांडिंग के साथ अपने बनाए हुए चप्पल का उद्योग शुरू करना चाहते हैं तो आपको ब्रांड रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा |
वैसे मेरे हिसाब से अगर आप इस बिजनेस को शुरू कर रहे हैं तो आप अपने प्रोडक्ट को बिना ब्रांड के ही बेंचें , और जब आप का प्रोडक्ट अच्छी तरीके से सेल होने लगे तो ही आप अपने चप्पल की ब्रांडिंग करें और उसके बाद में आप अपने ब्रांड के साथ अपने चप्पल को सेल करें |



चप्पल बनाने के लिए टिप्स:- दोस्तों सबसे जरूरी बात है कि अगर आप स्लीपर बनाने जा रहे हो तो स्लीपर की क्वालिटी अच्छी होनी चाहिए स्लीपर की क्वालिटी अच्छी होगी तो आपको मार्केट में अपने सामान को बेचने में अधिक समय नहीं लगेगा |

दूसरा ,स्लीपर की क्वालिटी अच्छी रखने के लिए आपको जो रबड़ सीट आप लेंगे वह रबर शीट अच्छी क्वालिटी का होना चाहिए आपको बाजार में लो क्वालिटी का भी रबड़ शीट मिलता है जिससे अच्छी क्वालिटी के चप्पल तैयार नहीं किए जा सकते हैं |

तीसरा ,स्लीपर की कटिंग सही हो और उसकी फिनिशिंग सही तरह से होनी चाहिए |

चौथा ,व्यवसाय शुरू करने से पहले लाइसेंस और परमिशन अवश्य ले ले ताकि बिजनेस शुरू करने के बाद में सुचारु रुप से चलाने के लिए कोई बाधा ना आए |



चप्पल का उद्योग स्थापित करने के लिए कुल लागत :-दोस्तों इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए लागत का निर्णय आपके व्यापार का स्तर करता है | यहां पर छोटे और बड़े दोनों स्तरों पर व्यापार के लिए कुल लागत का वर्णन हम किए दे रहे हैं -

अगर आप इस बिजनेस को छोटे पैमाने पर शुरू कर रहे हैं तो आप मैनुअल मशीन लेकर के शुरू कर सकते हैं जिसकी कुल कीमत 40 से ₹50000 होती है , इसके अलावा आप ऑटोमेटिक मशीन भी ले सकते हैं जिसकी कीमत मार्केट में लगभग सवा लाख से लेकर के ढाई - तीन लाख तक की मशीनें उपलब्ध हैं | आप अपने बजट के हिसाब से मशीनें खरीद कर के और उसके बाद आप इस उद्योग को स्थापित कर के चला सकते हैं |



चप्पल बनाने के व्यवसाय को शुरू करने के लिए जरूरी लाइसेंस:- इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको अपनी कंपनी का रजिस्ट्रेशन कराना होगा इसके बाद में आपको GST नंबर लेने की जरूरत होगी MSME में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा , अगर आप अपने ब्रांड के साथ इस बिजनेस को शुरू करना चाहते हैं तो आपको ब्रांड रजिस्ट्रेशन करवाना होगा इसके बाद में आपको इस बिजनेस को सुचारू रुप से चलाने के लिए ट्रेड लाइसेंस लेना होगा फर्म का करंट बैंक अकाउंट ,पैन कार्ड भी तैयार कराने की आवश्यकता होगी |





5 comments:

  1. दूसरे के आर्टिकल्स को अपना बताकर तारीफ बटोरने में शर्म नहीं आती. यह आर्टिकल्स (2017) बिजनेस मंत्रा में प्रकाशित हुई थी, उसकी तुमने पूरी की पूरी काॅपी की है.

    ReplyDelete